अच्छाई और बुराई

on Sunday, 5 July 2015

अच्छाई और बुराई


एक स्कूल में टीचर ने अपने छात्रो को एक कहानी सुनाई. एक समय की बात है एक समय एक छोटा जहाज दुर्घटना ग्रस्त हो गया उस पर पति पत्नी का एक जोड़ा सफ़र कर रहा था . उन्होने देखा की जहाज पर एक लाइफबोट है जिसमे एक ही व्यक्ति बैठ सकता है, जिसे देखते ही वो आदमी अपनी पत्नी को धक्का देते हुए खुद कूद कर उस लाइफबोट पर बैठ गया .उसकी पत्नी जोर से चिल्ला कर कुछ बोली ....टीचर ने बच्चो से पूछा की तुम अनुमान लगाओ वो चिल्लाकर क्या बोली होगी ?
बहुत से बच्चो ने लगभग एक साथ बोला की वो बोली होगी की तुम बेवफा हो, मे अंधी थी जो तुमसे प्यार किया, में तुमसे नफरत करती हूँ. तभी टीचर ने देखा की एक बच्चा चुप बैठा है और कुछ नहीं बोल रहा .....उसने उसे बुलाया और कहा बताओ उस महिला ने क्या कहा होगा. तो वो बच्चा बोलो मुझे लगता है की उस महिला ने चिल्लाकर कहा होगा की “अपने बच्चे का ख्याल रखना “. टीचर को आश्चर्य हुआ और बोली क्या तुमने ये कहानी पहले सुनी है ? उस बच्चे ने कहा नहीं लेकिन मेरी माँ ने मरने से पहले मेरे पिता को यही कहा था .
तुम्हारा जवाब बिलकुल सही है .फिर वो जहाज डूब गया, और वो आदमी अपने घर गया और अकेले ही अपनी मासूम बेटी का पालन पोषण कर उसे बड़ा किया . एक समय पश्चात् उस आदमी की मृत्यु हो जाती है तो उस लड़की को घर के सामान मे अपने पिता की एक डायरी मिलती है जिसमे उसके पिता ने लिखा था की.....
जब वो जहाज पर जाने वाले थे तब ही उन्हें ये पता लग गया था की उसकी पत्नी एक गंभीर बीमारी से ग्रसित है और उसके बचने की उम्मीद नहीं है, फिर भी उसको बचाने के लिए उसे लेकर जहाज से कही जा रहे थे इस उम्मीद मे की कोई इलाज हो सके . लेकिन दुर्भाग्य से दुर्घटना हो गयी, वो भी उसके साथ समुद्र की गहराइयों मे डूब जाना चाहता था, लेकिन सिर्फ अपनी बेटी के लिए दुखी ह्रदय से अपनी पत्नी को समुद्र में डूब जाने को अकेला छोड़ दिया . कहानी ख़त्म हो गयी पूरी क्लास मौन थी
.
.
.
.
टीचर समझ चुकी थी छात्रों को कहानी का मोरल समझ आ चूका था . संसार मे अच्छाई और बुराई दोनों है, लेकिन उनके पीछे दोनों मे बहुत जटिलताएं भी है, जो परिस्थितियों पर निर्भर होती है, और उन्हें समझना कठिन होता है . इसीलिए हमें जो सामने दिख रहा है उस पर सतही तौर से देख कर अपनी राय नहीं बनाना चाहिए, जब तक हम पूरी बात समझ ना लें,अगर कोई किसी की मदद करता है तो उसका मतलब यह नहीं की वो एहसान कर रहा है, बल्कि ये है की वो दोस्ती का मतलब समझता है, अगर कोई किसी से झगडा हो जाने के बाद माफ़ी मांग लेता है तो मतलब यह नहीं की वो डर गया या वो गलत था, लेकिन यह है की वो मानवता के मूल्यों को समझता है . कोई अपने कार्यस्थल पर पूरा काम निष्ठा से करता है तो मतलब यह नहीं की वो डरता है, बल्कि वो श्रम का महत्त्व समझता है और देश के विकास मे अपना योगदान करता है . अगर कोई किसी की मदद करने को तत्पर है तो उसका मतलब ये नहीं की वो फ़ालतू है या आपसे कुछ चाहता है, बल्कि ये है की वो अपना एक दोस्त खोना नही चाहता.

Success comes after failure/ सफलता असफलता के बाद आती है।

on Friday, 26 June 2015

Success comes after failure
सफलता असफलता  के  बाद आती है। 

shishu ne is dunia mai a ke ro ro ke hasna sikha, gir gir kar chalna sikha....

kya ap saflta ka raz jante h?
kya ap jante h ke saflta ka (luck) kismat se kuch lena dena nhe hota?
kya ap jante h ke dunia mai , agar sare nhe to 99% log jo safal hote han wo haar kar he jitne ka tarika sikhte h.

Agar ap bhi wo raaz janana chate h to is (article) lekh ko acchi tarah padenh.

Jab ap phale bar koi kaam karte h to bhut sambhavna hote h ke ap galtian karen, ye galtian apke sikhne ka ek process h. agar ap galti nhe kar rhe ho to ap seekh bhi nhe rhe ho. Mere baton ko galat mat samjhoo mere kahne ka sirf ye matlab h ke jab ap sikhte ho to galtian bhi hote h or asfalta bhi ati h.
Jo log safal hote h wo apne galtion se darte nhe, na he wo nirash hote h harne par, bas wo log apne galtion ko teacher man kar unse seekte han or agai badte han.

Q:) To agar saflta sirf sikna or galtian na karne se a jate h to bhut sare log fir bhi asafal ku rhate han?

Iska sidha sa jawab h, wo dar jaate han.

log kuch suruwati asafaltaon ke bad he nirash ho jate han.or (give up) har man lete han.
Mane apne kitab ye samjhaya h ke agar log apni galtion se sikhen or unhai sudaren or sabse jaruri bar bar pryas karen to wo jarur sahe raah dund lengay kamiyabi ke.

To apko bas ye tin 3 baton ka dhyan rakhna h:
  1. Kuch karo or akele karo: Suruwat to karo, jadatar log sirf sapno ke mahal bna lete han. Ap bas suru kardo bina deer kia. Or ho sake to akele karo India mai jadatar log Nakaratmak soch rakhte h ase logon se dur rho.
  2. Vifalta or asaflta to ayege he: Agar ap phale bar mai safal ho gye to ap sach much kismatwale han. Ap apne asafalta ko sahi tarike se dekho ye apko bhut kuch samjha rhe hote h. Galtian apki teacher hote h, ye apko batati h ke aap kamiyabi ke sahi raah par nhe ho.
  3. (Try again) Punha: prayas kijia: Apne galtion se sikho,samayogen (adjustments) karo, or fir prayas karo.
Agar ye sab padh kar bhi lagta he ke ap safal nhe ho sakte to nirash mat hona, Step4success  apko kamiyab hona sikhayega.

success secret step- सफल होने के रहस्य

success secret step- सफल होने के रहस्य।


Mera ek dost nye ghr mai shift hua uske ghr mai darwaje par nye design ka talla tha wo jase he darwaja kholne lga to asamarth rha, usne punha prayas kia lekin fir asfal rha. wo bar bar talla kholne ke lia chabi ko tallai mai dal kar gumata lekin talla nhe khula, karib adhe gante bad ja ke usnai dekha ke talle mai ek button tha jissai chabi dalne ke bad dabana tha. us button ko dabate he talla khul gya.

Is khani se ap ye dekh sakte han ke log is lia asafal nhe hote kyuki wo mahnat nhe kar rhe hote, par kai bar log galat tarike se mahnat kar rhe hote h.
kuch log galat tarike se mahnat kar kar ke thak jate han or har man lete h (give up).

To agar ap asi asfalta se bachna chate h to apko es sujhav ko swikar kar lena chaia.

  • lachile (flexible) bno: Agar apke hath asfalta lagti h to apna drishtikon badal ke dekho, kuch nye tarike se prayas karo. ho sakta h ke bas ap ek button dabana bhul gye ho.:)
  • Kosish karne ke sankhya: ap puna prayas karen, asafal ho to punha prayas karo. Tab tak jab tak safalta ke uchai ko na chu lo.
  • Sikhne ke lia tyair rhen hamesha: kathnaion se sikho, jase he kathnaiyan atti h kuch log ghabra jate h, udas ho jate h, sikhna band kar dete h. chitan mai chale jaate h. Par wanhe kuch log us kathin samay mai bhi sikhna jari rakhte han or ant mai saflta ko prapt kar lete han.
  • Manseek (psychologically) roop se tayair rho: Log mazak udayengay - han, Log apki alochna karengay- han, log apko bura bhala kahengay- han, log har wo prayas karengay jis se apke asfalta nishit ho jaye lekin agar ap ko safal hone ka nasha hoga to ap in logon ke nakartmak vichoron ko apne maan (subconcious mind) mai nhe basaoge.Apko tough mazboot banna padega manseek roop se.
Mane apne kitab mai bataya h ke jab Mr. X phale bar America gye naukri karne to wha ke logon ne unke alochna ke, unke sath bhed bhaw hua, unhe apman sahna pda. Par annt mai unhone ant-heen prayas kia or safal hue. Aj ham sab Mr. X ko _______ ke nam se jante h.